Excerpt from “The Revenue Stamp” by Amrita Pritam

समय की मुस्कुराहट और मेरे अपने कंपन के कारण मेरी आँख खुल गई, और उन्हीं दिनों मैंने लिखा-

दु:खांत यह नहीं होता कि रात की कटोरी को कोई ज़िंदगी के शहद से भर न सके और वास्तविकता के होंठ कभी उस शहद को चख न सकें –

दु:खांत यह होता है कि जब रात की कटोरी पर से चन्द्रमा की क़लई उतर जाए और उस कटोरी में पड़ी हुई कल्पना कसैली हो जाए ।

दु:खांत यह नहीं होता कि आप की किस्मत से आप के साजन का नाम-पता न पढ़ा जाए और आप की उम्र की चिट्ठी सदा रुलती रहे ।

दु:खांत यह होता है कि आप अपने प्रिय को अपनी उम्र की सारी चिट्ठी लिख लें और फ़िर आप के पास से आप के प्रिय का नाम-पता खो जाए …

दु:खांत यह नहीं होता कि ज़िन्दगी की लंबी डगर पर समाज के बंधन अपने कांटे बिखेरते रहें और आप के पैरों में से सारी उम्र लहू बहता रहे ।

दु:खांत यह होता है कि आप लहू-लूहान पैरों से एक उस जगह पर खड़े हो जाएं, जिस के आगे कोई रास्ता आप को बुलावा न दे ।

दु:खांत यह नहीं होता कि आप अपने इश्क के ठिठुरते शरीर के लिए सारी उम्र गीतों के पैरहन सीते रहें ।

दु:खांत यह होता है कि इन पैरहनों को सीने के लिए आप के पास विचारों का धागा चुक जाए और आप की क़लम-सूई का छेद टूट जाए …

– हिंदी में अनुवादित “रसीदी टिकट” में से साभार 

Advertisements

One Response to “Excerpt from “The Revenue Stamp” by Amrita Pritam”

  1. nilam doshi Says:

    nice to read this here…once again.thanks

    nilam doshi

    http://paramujas.wordpress.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: