Geetanjali – Ravindranath Tagore

हे नाथ ! तू मेरी इतनी विनती

हे, नाथ ! तू मेरी इतनी विनती स्वीकार कर;

एक बार स्वीकार कर !

मेरे हृदय में बस जा, अब लौट कर न जा !

जो दिन तेरे वियोग में गया, वह धूलि में मिल गया !

अब तेरे ही प्रकाश में जीवन-कलिका को खिलाने के लिए

मैं दिनानुदिन जाग रहा हूँ ।

किस उन्माद में, किस खोज में, मैं इधर-उधर की राहों पर

भटकता रहा ? कौन जाने ?

अब मेरे हृदय पर कान रख और अपनी ही आवाज़ सुन !

मेरे पास जो पाप-धन या छल-बल शेष दिखाई दे,

उस के कारण मुझे मत लौटा दे

उसे आग से भस्म कर दे !

अनुवाद: सत्यकाम विद्यालंकार, इंदु जैन

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: